Friday, January 30, 2009

सबसे खतरनाक होता है सपनों का मर जाना

मेहनत की लूट सबसे खतरनाक नहीं होती
पुलिस की मार सबसे खतरनाक नहीं होती
गद्दारी, लोभ की मुट्ठी
सबसे खतरनाक नहीं होती

बैठे बिठाए पकड़े जाना बुरा तो है
सहमी सी चुप्पी में जकड़े जाना बुरा तो है
पर सबसे खतरनाक नहीं होती

सबसे खतरनाक होता है
मुर्दा शांति से भर जाना
ना होना तड़प का
सब कुछ सहन कर जाना
घर से निकलना काम पर
और काम से लौट कर घर आना
सबसे खतरनाक होता है
हमारे सपनों का मर जाना

-पाश

12 comments:

  1. बहुत अच्छी कविता..

    ReplyDelete
  2. ब्लोगवानी पर जब ये शब्द पढे तो लगा कि ये तो शायद पाश जी की लिखी हुई है। और एक पल रहा नही गया। और फिर जब ब्लोग पर आया तो दिल खुश हो गया पूरी रचना पढ़कर। पाश जी की लेखनी का तो जवाब नहीं। उनकी लिखी रचना आदमी को झकझोर देती है।
    सबसे खतरनाक होता है
    हमारे सपनों का मर जाना

    सच।
    शुक्रिया जी।

    ReplyDelete
  3. सही कहा सबसे खतरनाक होता हैं सपनो का मर जाना

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर और प्रभावशाली रचना

    ReplyDelete
  5. भाई जब तक सपने जिन्दा हैं तब तक हम जिन्दा हैं. बढिया रचना.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. sahi kaha hai...sapno ka mar jaana sabse khatarnaak hota hai.siwaye sapno ke insaan me bachta hi kya hai...wahi roj roj ki kavayad aur kya.

    ReplyDelete
  7. sapne hi to saans bante hain,sapno ka mar jaana ....waakai sabse khatarnaak hai,
    bahut hi achhi abhivyakti

    ReplyDelete
  8. सच है - स्वप्न जीवंतता की निशानी हैँ।

    ReplyDelete
  9. सपने हैं तो अपने हैं,सपने नही तो कुछ भी नही,बहुत अच्छे पी डी।

    ReplyDelete
  10. पाश की यह रचना हमारे डेस्क पर हमेशा रहती है. बहुत आभार.

    ReplyDelete
  11. bahut pehle aapne ye kavita ek baar mujhse share ki thi..mujhe iski pehli pankti aaj tak yaad hai...shayad hamesha rahegi.. :)

    ReplyDelete