Thursday, January 01, 2009

एक शीर्षक हीन पोस्ट

नया साल
नयी सुबह
नया जोश
नयी उमंग
नये लोग
नये चेहरे
नये सपने
नयी उदासी
नये कहकहे
नयी खामोशी
नयी खबरें
नया एकाकीपन
हर चीज नया
मानों जिंदगी फिर मजाक उड़ा गई हो..

8 comments:

  1. kya yaar! saal ke pahle din aisi post thode likhte hain.
    naya hamesha kuch behtar hone ki ummid liye aata hai, postive note par shuru karo.( jyada lecture ho gaya lagta hai :P)
    nav varsh mangalmay ho!

    ReplyDelete
  2. और पुराने कहाँ गए पी डी भाई ? इट्स नाट फेयर !

    ReplyDelete
  3. happy new year
    PD bhai....

    main aapki posts read nahi kar pa raha hun....
    font ki problem hai....
    solution maloom ho to batana....

    ReplyDelete
  4. इस अन्दाज मे भी छा गये भाई।

    रामराम।

    ReplyDelete
  5. व्यस्त रहा, बात न कर पाया कल कोशिश करता हूँ।
    नए वर्ष की बहुत बहुत शुभ कामनाएँ। नयी बुलंदियाँ मिलें।

    ReplyDelete
  6. अंधेरे में उजाले की किरण साफ नजर आ रही है, PD नये साल की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. नया एकाकीपन
    हर चीज नया
    मानों जिंदगी फिर मजाक उड़ा गई हो..

    बहुत सही लिखा .पर फ़िर भी उम्मीद पर दुनिया कायम है ..

    ReplyDelete