Sunday, April 19, 2009

मेरे बेटूलाल का पहला कदम

मेरा बेटूलाल अब बिना किसी कि सहायता के सरकना सीख लिया है.. अभी कुछ दिन पहले मेरे पापा-मम्मी यहाँ चेन्नई मेरे पास आये हुए थे और इसी बीच मेरा बेटूलाल(भैया का बेटा शाश्वत प्रियदर्शी) ने बिस्तर के बाहर अपना कदम फैलाना शुरू कर दिया.. यहाँ एक वीडियो भैया ने उपलोड किया है जिसे मैं यहाँ पोस्ट कर रहा हूँ.. :)

19 comments:

  1. हम bachhon को यूँ हस्ता खेलता देख कर खुश होते हैं ...यही जीवन है ...बहुत बधाई

    ReplyDelete
  2. वाह, बधाई। मज़ा लीजिए।

    ReplyDelete
  3. बच्चे जब पहली बार चलते है तो देखकर माता और पिता को बहुत अच्छा लगता है . एन्जॉय कीजिए . शुभकामनाओ के साथ

    ReplyDelete
  4. बच्चे जब पहली बार चलते है तो देखकर माता और पिता को बहुत अच्छा लगता है . एन्जॉय कीजिए . शुभकामनाओ के साथ

    ReplyDelete
  5. shirshak dekh kar to thoda ghabraye, ki bhai shadi ke bare me to ab tak bataya nahin seedhe betulal ;)
    badhai ho...cute hai.

    ReplyDelete
  6. bachcho ko khelte dekhna aur sath khelna ya khilana mujhe bahut achchha lagta hai

    ReplyDelete
  7. शाश्वत में अभी से हम एक कुशल धावक के गुण देख रहे हैं.
    आपके परिवार में सभी को बहुत बधाई

    ReplyDelete
  8. वाह अपनी बेटी याद आ गई। हमारी तरफ से खूब प्यार और आर्शीवाद।

    ReplyDelete
  9. अरे वाह !! बधाई

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छे.....दूर तक जाने वाला कदम है यह

    ReplyDelete
  11. बहुत बधाई और पल्टू को बहुत प्यार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. लिंक तो खुला नहीं ... देख नहीं पायी ... पर मुन्‍ने के चाचा को बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  13. ऑफिस में होने की वजह से वीडियो तो देख नहीं पाया :( पर अब जब बेटुलाल चलने ही लग गया तो फिर चाचू के साथ सैर हो जाए चेन्नई की..

    ReplyDelete
  14. उसका यह पहला कदम, उसे दुनिया में दूर तक ले जाएगा।

    -----------
    खुशियों का विज्ञान-3
    एक साइंटिस्‍ट का दुखद अंत

    ReplyDelete
  15. शाश्वत के मम्मी और डैडी की तरफ से आप सबों को बहुत बहुत धन्यवाद.
    -पूजा और सुस्मित

    ReplyDelete
  16. यार तुमने चौंका दिया...शीर्षक पढ़ कर बड़ा गुस्सा आया...
    कब कर ली शादी...? ताव ताव में ब्लाग पर पहुंचा तो तरावट आई....

    शानदार वीडियो है...पहली बार में अटका, दूसरी बार में दौड़ा..मगर बेटूलाल अपने जीवन में हर बार पहली बार में ही दौड़े यह आशीर्वाद है...
    जैजै

    ReplyDelete