Friday, April 17, 2009

अथ हिंदीभाषी कथा इन चेन्नई

पिछली कथा पढ़कर घुघुती जी ने मुझसे यह उम्मीद जतायी कि मैं जल्द ही यहां हिंदी बोलने के ऊपर कि कोई कथा लेकर आऊंगा, तो लिजिये हाजिर हूं.. इसके कयी छोटे-छोटे अध्याय हैं और सभी अद्याय अपने आप में संपूर्ण.. तो चलिये आपको यहां कि भाष के साथ अपने और अपने मित्रों के कुछ हिंदी से जुड़े दिलचस्प और कड़वे अनुभव सुनाता हूं..

अध्याय एक -
मेरा एक मित्र जब पॉडिचेरी घूम रहा था तब उसे एक ट्रैफिक पुलिस ने पकर लिया.. पुलिस का कहना था कि आप वन वे में हैं और मेरा मित्र का कहना था कि यहां कहां लिखा हुआ है कि यह वन वे है? उसने उसे साईन बोर्ड दिखाया जिसमे तमिल में लिखा हुआ था.. मेरे मित्र ने उसे कहा कि उसे तमिल कि समझ नहीं है, तो उस पर उस पुलिस वाले ने कमेंट करते हुये कहा कि तमिल नहीं आती तो तमिलनाडु में क्यों आये? मेरे मित्र ने उस समय उससे बहस के मूड में नहीं था लेकिन बाद में उसका कहना था कि अगर इन्हें हिंदी नहीं आती तो भारत में क्या कर रहे हैं? इन्हें श्रीलंका ही भगा देना चाहिये..

अध्याय दो -
यहां तमिलनाडु में रहते हुये हमने सबसे पहले एक से दस तक तमिल में गिनती सीख ली.. जब शुरूवात में चेन्नई आये थे तब मैं और मेरा मित्र शिवेन्द्र बस से ऑफिस तक का सफर साथ-साथ किया करते थे.. हम जब भी अंग्रेजी में कंडक्टर को कहते थे कि, "अन्ना टू टिकट!! पौंडिबाजार".. तो तमिल में उत्तर आता था.. एक दिन हममे से किसी ने टिकट के लिये कंडक्टर को तमिल में कहा, "अन्ना रंड टिकट!! पौंडिबाजार".. उधर से जवाब आया, "दो टिकट चाहिये?" ;)
(तमिल गिनती में रंड का मतलब दो होता है)

अध्याय तीन -
मेरी एक मित्र का हमेशा कहना होता है कि, "यहां बाजार में कहीं चलते हुये अगर् किसी को हिंदी बोलते हुये सुन लो तो झट से आंखों कि बत्ती जल जाती है.. अरे, ये तो नोर्थ इंडियन है.." ;)
जी हां, यह बिलकुल सच है.. यहां के लोग अपनी भाषा को बिलकुल पकर कर रहते हैं और किसी भी हालत में उसे छोड़ना पसंद नहीं करते हैं.. अगर उन्हें हिंदी आती भी है तो हिंदी ना समझने का नाटक करते रहते हैं.. वैसे अब धीरे-धीरे यह मानसिकता खत्म हो रही है.. खासतौर से उन लोगों का अनुभव जिन्हें हिंदी नहीं आती है और कभी उत्तर भारत चले गये हों तो उनकी परेशानी का कोई ठिकाना नहीं रहा था..

अभी कुछ दिन पहले यहां के एक लोकल समाचार पत्र में मैंने पढ़ा था कि अब यहां के लोग अपने बच्चों को तमिल के साथ-साथ हिंदी भी सिखाने के लिये आगे आ रहे हैं.. क्योंकि अब उन्हें भी समझ में आ रहा है कि इस ग्लोबलाईजेशन के समय में हो सकता है कि उनके बच्चों को उत्तर भारत में जाकर काम करना परे.. उस रिपोर्ट में यह भी था कि यहां के बुजुर्ग जो तमिल भाषा को बिलकुल पकड़ कर बैठे हुये हैं, वे इसे तमिल के ऊपर हिंदी का हमला मान रहे हैं मगर उनके पास भी कोई दूसरा विकल्प नहीं है..

20 comments:

  1. रोचक अनुभव. करोद्पों दक्षिण भारतीय उत्तर में अपनी रोजी रोटी में लगे हैं. उन्हें कोई परेशानी नहीं है. लेकिन अब जब कुछ उत्तर वासियों को दक्षिण जाना पड़ रहा है तो बड़ा हाय तौबा मचा दिया, ऐसा क्यों? यह आपकी मानसिकता का प्रतिबिम्ब है.

    ReplyDelete
  2. रोचक अनुभव है यह ..पर अब जिस तरह से नौकरी के लिए कहीं भी जाना पड़ सकता है तो बिना किसी भेद भाव के वहां कि भाषा का ज्ञान हो तो अच्छा है ..

    ReplyDelete
  3. शायद तमिल के अलावा अन्य भाषा बोलने वाले लोगों की सहायता न करने की समस्या तमिलनाडु में ही सबसे अधिक है। बहुत पहले सन् 1981 में आंध्रप्रदेश में लगभग एक साल तक रहा और वहाँ से सभी क्षेत्रों में मेरा दौरा रहा किन्तु वहाँ इस प्रकार की किसी समस्या का मुझे सामना नहीं करना पड़ा था। वहाँ के लोग तो अपनी समझ के अनुसार हिन्दी बोलकर भी सहायता करने के लिये तत्पर रहते थे।

    ReplyDelete
  4. सही है मानसिकता अब बदल रही है। 1999 में जब चेन्नई में रहना शुरू किया तो मैंने भी भाषा के कारण बहुत परेशानी उठाई पर अब बात और है। फ़िर भी खट्टे मीठे अनुभव तो अब भी हो ही जाते हैं।

    ReplyDelete
  5. वाह, आपने मेरा अनुरोध स्वीकारा। धन्यवाद। अभी समय का अभाव है व कुछ दिन के लिए बाहर जाना है, आकर मैं भी कभी दक्षिण भारत के रोचक किस्से सुनाऊँगी।
    सुब्रहमन्यम जी, मानसिकता तो थोड़ी गड़बड़ हो सकती है किन्तु मेरे जैसे लोगों ने तेलुगु सीखने का जी जान से प्रयास किया, यहाँ तक की तेलुगु ट्यूशन तक लगाई।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  6. कथा उत्तम है। आगे पीछे हिन्दी तो सब भारतियों को अपनानी होगी, या कुएँ में रहना होगा।

    ReplyDelete
  7. कोई तीनेक साल पहले वेल्लूर गया था तो वहां के दुकानदार तमिल भाषियों को तरजीह देते थे. हम हिन्दी भाषियों को हिकारत की नजर से देखते थे और जबरन इंतजार करवाते थे. परंतु चेन्नई और बड़े स्थानों में इस तरह की समस्याएँ अब धीरे-2 समाप्त हो रही हैं.

    ReplyDelete
  8. केरल के शहर से दूर के एक कसबे में एक दूकान पर हमें पॉँच युवक मिले. वे अपने लिए सिम कार्ड खरीद रहे थे. दूकानदार से मलयालम में बातें भी कर रहे थे. हमने देखा कि वे आपस में हिंदी बोल रहे हैं. बड़ी ख़ुशी हुई. पूछा कि वे क्या करते है तो उन्होंनेमलयालम में ही उत्तर दिया कि टाइल फैक्ट्री में प्रेस मशीन पर काम करते हैं. निश्चित ही अधिक पढ़े लिखे नहीं थे लेकिन मोतीहारी से आकर केरल में मलयालम सीख कर जीना सीख लिया.

    ReplyDelete
  9. ye samasyaa tamilnaadu mein jyada hai aur ye bhi ek rajneetik den hai

    ReplyDelete
  10. भाई जो आदमी रोजी रोटी कमाने कहीं भी जाता है वो धीरे धीरे वहां की भाषा अपने आप सीख जाता है, ये सब चिल्लपों राजनीती की रोटी सेकने की कसरत है. किसके पास फ़ुरसत है ये सब करने की?

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. "तमिल नहीं आती तो तमिलनाडु में क्यों आये?"
    इसी मानसिकता ने तो आज देश को खंडित कर दिया है। क्षेत्रवाद, जातिवाद, लिंग -भेद .....सभी तरह से देश को बांटा जा रहा है!!!

    ReplyDelete
  12. कुछ लिखने आया था, टिप्पणीयों से मन खिन्न हो गया

    ReplyDelete
  13. आपने जिस प्रकार के उदाहरण दिए हैं वे एकतरफ़ा हैं, मानो,जिसने तमिलनाडु तो क्या केवल मद्रास को भी पूरा ठीक ठीक पूरा नहीं जाना।

    गान्धी जी द्वारा स्थापित व अब संसदीय अधिनियम द्वारा घोषित राष्ट्रीय महत्व की संस्था दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा ( चार राज्यों में) का मुख्यालय चेन्नई में है और अकेले तमिलनाडु से प्रतिवर्ष लगभग १५ से २० हज़ार छात्र हिन्दी की विविध परीक्षाएँ देते हैं।

    ReplyDelete
  14. दूसरी भाषा वाले प्रांत में ऐसी दिक्कतें आती ही हैं...लेकिन हिन्दी और अंग्रेजी तो कम से कम सभी को आना चाहिए ताकि दो भाषाएं तो कॉमन हों जिसमे सभी आपस में संवाद कर सके!

    ReplyDelete
  15. मेरा दोस्त तो तमिलनाडु में हिंदी बोलने पर पिट चुका है! कभी फुरसत से पढ़ियेगा।

    ReplyDelete
  16. मजेदार वृतांत सुनाए आपने।

    ReplyDelete
  17. पी.डी. अंकल इससे बचने के लिये मैं आजकल हिंदी सीख रही हूं.

    ReplyDelete
  18. सही कहा आपने

    चीन अंग्रेजी सीख रहा है
    और तमिलनाडु हिंदी

    दुनिया बदल रही है

    ReplyDelete
  19. टिप्पणिया लेख को पता नहीं कहा ले जाती है.. बहरहाल बाते विचारणीय है सारी

    ReplyDelete