Thursday, August 28, 2008

क्या मम्मी!! कहां फंसा दी??

क्या मम्मी!! कहां फंसा दी?? कितने अच्छे से आराम से था.. अब तो जिसे देखो आता है.. चारो ओर घेरा डाल कर घूरता है.. इतने मूरख लोग हैं ये सभी, इतने बड़े हो गये हैं और अभी तक ठीक से बोलना भी नहीं आता है.. पता नहीं किस भाषा का प्रयोग करते हैं? कितने जाहिल गंवार लोग हैं.. आते ही अलेलेले.. आ आ आ आ.. और भी पता नहीं कितने तरह के अंट संट आवाजें निकालते हैं.. इससे अच्छा तो मैं हूं, कितना आराम से ऊंऊं करता रहता हूं.. मम्मी, तुम भी उन्हीं की भाषा बोलती हो.. कभी तो ठीक से बोला करो.. मेरी तरह.. ऊं ऊं.. :)


आराम से सोता हुआ मेरा बच्चा.. :)


ब्यूटी एंड बीस्ट.. मेरे हाथ के सामने मेरे बच्चे का हाथ.. :)

15 comments:

  1. बहुत क्यूट बच्चा है. अभी नाम नहीं रखा क्या चाचा जी ने.

    ReplyDelete
  2. नहीं जी..
    अभी तक नाम नहीं चुना गया है..
    वैसे भी ये डिपार्टमेंट हमने इसके पापा-मम्मी पर छोड़ दिया है..
    आप भी कुछ सुझा सकते हैं..
    कृष्ण का पर्यायवाची हो तो बहुत बढिया.. :)

    ReplyDelete
  3. वाह जी वाह बधाई हो चाचा जी को..

    ReplyDelete
  4. बधाई हो बधाई...
    कहाँ है हमारी मिठाई..:)

    ReplyDelete
  5. एक टिपियाने वाला घर में और हुआ.....
    बधाई भतीजे के आने की। और उस के मम्मी पापा को।

    ReplyDelete
  6. बहुत cute है.. काँन्हा.. (हमने तो नाम दे दिया.. बाद में बदल देगें).. मासुम.. प्यारा...

    बच्चे को कभी केवल स्तनपान करवाना.. कोइ भी उपर कि चिज नहीं दवा के सिवा....

    ReplyDelete
  7. bahut pyara hai,nazar na lage kisi ki

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर।

    ReplyDelete
  9. वाह! वाह!

    बहुत सुंदर. बधाई है भाई...पूरे परिवार को बधाई.

    ReplyDelete
  10. चाचा जी बनने की बधाई,

    ReplyDelete
  11. Congratulations ji!
    Krishna ka paryayvachi would be kool; he really looks like little "Kanha" :)

    ReplyDelete