Thursday, August 23, 2007

भाषा का ज्ञान और भाषा की समझ

मेरी समझ में भाषा का ज्ञान और भाषा की समझ दोनों में बहुत अंतर है। मेरी मातृभाषा हिंदी है जिसे मैं बचपन से बोलता आया हूं और मुझे इस भाषा से बहुत प्रेम भी है। मैं कुछ और भाषा भी समझ और बोल लेता हूं पर मेरी समझ में वो बस हिंदी का एक अनुवाद भर ही है जैसे अंग्रेजी और मैथिली। ऐसे कहने को तो मेरी मातृभाषा मैथिली है पर बचपन से ही मैं हिंदी में ही बोलता आया हूं और इसी कारण से मैं हिंदी को ही अपनी मातृभाषा का संज्ञा देता हूं।

मैं यहां विषय से थोड़ा भटक गया था, मेरी समझ में आप अपनी भावनाओं को उसी भाषा में सही तरह से उजागर कर सकते हैं जिस भाषा कि आपको समझ हो। जिस भाषा का आपको ज्ञान भर है उस भाषा में आप अपनी बात को बस दूसरे तक पहूँचा भर सकते हैं। मेरे कई मित्र ऐसे हैं जो अक्सर मुझसे पूछते हैं की मैं अपना सारा ई-मेल हिंदी में क्यों लिखता हूं, क्योंकि मेरी व्यवसायिक भाषा अंग्रेजी है। उसका उत्तर उन्हें मेरे इस चिट्ठे में मिल जायेगा। ये कुछ और नहीं मेरी अपनी भाषा से प्रेम भर है और बस यही कारण है मैं जो कुछ भी लिखता हूं उसकी लिपी देवनागरी होती है।


मेरे साथ जितने भी मेरे मित्र रहते हैं वे सभी अक्सर मेरी भाषा से आतंकित रहते हैं। कारण ये नहीं कि उन्हें ये भाषा आती नहीं है, वरन् ये कहा जाये की उन्हें भी ये भाषा उतनी ही आती है जितनी कि मुझे तो ज्यादा सही होगा, कारण ये है की आज के इस युग में वो इस तरह की भाषा के आदी नहीं हैं। उनमें से एक (विकास) के बारे में मेरा विचार तो ये है कि उसकी इस भाषा पर मुझसे ज्यादा पकड़ है। खैर, कभी-कभी मैं जानबूझ कर भी इस भाषा के भारी-भरकम शब्दों का प्रयोग भी करता हूं, बस उन्हें परेशान करने के लिये। :)

मैं इसी उम्मीद के साथ इस चिट्ठे को बंद कर रहा हूं की और लोग भी हमारे इस भाषा के

महत्व को समझे और ज्यादा से ज्यादा इस भाषा का प्रयोग करें क्योंकि प्रयोग करने से ही ये महान भाषा अपने शीर्ष पर पहूंच सकता है। प्रयोग से ही कोई भी भाषा महान बनती है। ये सही है की विदेशी भाषा का अच्छा ज्ञान होने से आप कई जगह सफल हो सकते हैं और इसीलिये विदेशी भाषा का ज्ञान भी होना बहुत जरूरी है, पर वो आपको महान नहीं बना सकती है। आपको और आपकी संस्कृति को महान बनाने का कार्य आपकी अपनी भाषा ही कर सकती है।

धन्यवाद

10 comments:

  1. Acha likha hai. Shabdon ka selection ache dhang se kiya gaya hai aur sabse achi baat, sabhi ka level ek saman hai (jo pehle kam dekhne ko mailta tha). Na chate hue bhi hum English use kar rahen hain. Waise pehle hindi mein hi likh rahe the lekin acha nahi laga kyonki letter to English hi use ho raha tha.

    Lekin bahut thoda sa likha hai. Time mile to ise badhana. Waise ek jagah mere naam bhi hai bracket mein. Aur hindi ka tu to master hai. Hum kahan….TU KAHAN... haan kabhi kabhi use kar lete hain. Sahi use to tu kar raha hai. Mere ko likhne ko bola jaye halat kharab ho jayega. Aur tu to achchha khasa likh leta hai.

    Tera “ek kahani bachpan ki” padhe. Who bhi acha hai. Khaskar last wala paragraph. Ekdum sahi likha hai.

    ReplyDelete
  2. भारतेंदु ने कभी कहा था, निज भाषा उन्‍नति अहै, सब उन्‍नति को मूल... ठीक है कि हिंदी आप अपनी मातृभाषा की संज्ञा देते हैं, लेकिन ये ज़बान कई ऐसी लोकभाषाओं की बुनियाद पर खड़ी है, जिन पर आज सत्ता-व्‍यवस्‍था का ध्‍यान नहीं है। आप बंगाल और थोड़ा दक्षिण को देखिए। उनकी सांस्‍कृतिक समझ और विरासत आपकी हिंदी से कहीं अधिक समृद्ध है। सौ-दो सौ साल की हिंदी को आप इतना अधिक सम्‍मान दे रहे हैं, लेकिन आपके घर की ज़बान मैथिली आपके लिए बेगानी है, जिसके कवि विद्यापति तमाम भारतीय भाषाओं के आदिकवि हैं। इसलिए अच्‍छा है कि आपके हिंदी का ज्ञान है, लेकिन भाषाई समझ के मामले में ये ज्ञान अभी और गहराई की मांग करता है।

    ReplyDelete
  3. likha achaaa hai per 1 galti kar di bhai neee. anvesh ke samne kabhi bhasha ka pryog hi nahi kiaa.

    ReplyDelete
  4. सबसे पहले तो आपसे शिकायत है, कि आपने बड़े भाई की तरह नहीं एक अंजान बन कर अपनी प्रतिक्रिया जताई है। अगर आप बड़े भाई कि तरह लिखते तो आप मुझे तुम कह कर ही संबोधित करते। खैर आप मुझसे बहुत बड़े हैं और हर क्षेत्र में मुझसे बहुत ज्यादा अनुभव भी है, सो आपको इसकी ज्यादा समझ होगी।

    मैं यहां बस इतना ही कहना चाहूंगा कि कोई भी भाषा मेरी समझ में अच्छा या बुरा नहीं होता है, अच्छे या बुरे तो हम या आप होते हैं। ये तो हमारे समाज में बैठे लोग ही तय करते हैं कि कौन भाषा अच्छा या बुरा है। और जहां तक आपने मेरी बात कही है तो मेरा कहना ये है की मैथिली मेरे लिये एक ऐसी भाषा है जिसे मैं अंग्रेजी से भी कम जानता हूं, अब आप ही कहिये मैं इसे अपनी मातृभाषा कैसे कह दूं। ठीक उसी तरह मैं दरभंगा का रहने वाला हूं क्योंकि मेरे पिताजी वहां के थे, मगर मैं वहां कभी 10 दिन भी लगातार नहीं रहा तो मुझे उससे भी बहुत ज्यादा लगाव नहीं है। मैं पटना में सबसे ज्यादा समय रहा हूं तो मुझे पटना से ज्यादा लगाव है। ठीक इसी तरह अगर मेरे बाद की पीढी अगर किसी और महानगर को अपना शहर कहने लगे तो मुझे कभी भी ऐतराज नहीं होगा। क्योंकि मैं जानता हूं कि उसे पटना या दरभंगा से बहुत ज्यादा लगाव कभी नहीं होने वाला है। शायद दो पीढी के बीच होने वाले कम्यूनिकेशन गैप का एक बहुत बड़ा कारण ये भी है कि पहली पीढी सोचती है की दूसरी पीढी मेरी तरह क्यों नहीं सोचती है और दूसरी पीढी के पास उस तरह से सोचने का कोई उचित कारण नहीं होता है।

    आप अच्छी तरह जानते हैं कि मैं अभी चेन्नई में हूं और मुझे तमिल नहीं आती है और मुझे इस कारण कई तरह की परेशानियों का सामना करना परता है। लेकिन फ़िर भी मैं इस भाषा के महत्व को समझता हूं और ये भी जानता हूं की ये भाषा हिंदी से बहुत ज्यादा समृद्ध है। मेरे ख्याल से आप मेरी भावनाओं को अच्छी तरह समझ रहे होंगे।

    ReplyDelete
  5. हिन्दी ब्लॉगिंग मे आपका स्वागत है। यदि आप लगातार हिन्दी मे लिखने की सोच रहे है तो आप अपना ब्लॉग नारद पर रजिस्टर करवाएं। नारद पर आपको हिन्दी चिट्ठों की पूरी जानकारी मिलेगी।

    ReplyDelete
  6. मैं किसी भाषा को किसी से न तो कमतर बता रहा हूं, न बेहतर। तमाम भाषाओं की अपनी विरासत है, अपने मुहावरे हैं। मैं सिर्फ ये कहना चाहता हूं कि अगर अंग्रेज़ी आज विश्‍व भाषा है, भले ही वो अमेरिकी साम्राज्‍यवाद के ताक़तवर होने की वजह से हो, लेकिन वो हम तक सीधे बेलाग पहुंचती है। उसे हमने सीखा और सीखने में कोई गुरेज़ नहीं रखी। लेकिन भारतीय भाषाओं को सीखने की हमारी हकलाहट के पीछे का मनोविज्ञान भी हमें समझना होगा। आपको जो माहौल मिला, उसमें आपका मैथिली न जानना लाज़ि‍मी है- मेरा आग्रह सिर्फ इतना है कि अगर आपने थोड़ी कोशिश करके उस ज़बान के मुहावरे हथिया लिये होते, तो आपकी हिंदी में भी एक चमक आ जाती। बाक़ी आपकी तमाम बातों से मैं सौ फ़ीसदी सहमत हूं।

    ReplyDelete
  7. आपका कहना बिलकुल सही है भैया, और ऐसी बात नहीं है की मैं इसका प्रयास नहीं कर रहा हूं। आप मेरे पास कई मैथिली की किताबें पा सकते हैं जिनमें "हरिमोहन झा" का नाम प्रमुख है।

    जितेन्द्र जी के लियेः आपके सुझाव के लिये बहुत-बहुत धन्यवाद। मैं पहले ही वहां अपना पंजीकरण करा चुका हूं और सोमवार का इंतजार कर रहा हूं।

    ReplyDelete
  8. हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है।
    हिन्दी के प्रति आपकी भावना भी स्तुत्य है।

    ReplyDelete
  9. photo album softwareNovember 26, 2008 1:45 AM

    black mold exposureblack mold symptoms of exposurewrought iron garden gatesiron garden gates find them herefine thin hair hairstylessearch hair styles for fine thin hairnight vision binocularsbuy night vision binocularslipitor reactionslipitor allergic reactionsluxury beach resort in the philippines

    afordable beach resorts in the philippineshomeopathy for eczema.baby eczema.save big with great mineral makeup bargainsmineral makeup wholesalersprodam iphone Apple prodam iphone prahacect iphone manualmanual for P 168 iphonefero 52 binocularsnight vision Fero 52 binocularsThe best night vision binoculars here

    night vision binoculars bargainsfree photo albums computer programsfree software to make photo albumsfree tax formsprintable tax forms for free craftmatic air bedcraftmatic air bed adjustable info hereboyd air bedboyd night air bed lowest pricefind air beds in wisconsinbest air beds in wisconsincloud air beds

    best cloud inflatable air bedssealy air beds portableportables air bedsrv luggage racksaluminum made rv luggage racksair bed raisedbest form raised air bedsaircraft support equipmentsbest support equipments for aircraftsbed air informercialsbest informercials bed airmattress sized air beds

    bestair bed mattress antique doorknobsantique doorknob identification tipsdvd player troubleshootingtroubleshooting with the dvd playerflat panel television lcd vs plasmaflat panel lcd television versus plasma pic the bestThe causes of economic recessionwhat are the causes of economic recessionadjustable bed air foam The best bed air foam

    hoof prints antique equestrian printsantique hoof prints equestrian printsBuy air bedadjustablebuy the best adjustable air bedsair beds canadian storesCanadian stores for air beds

    migraine causemigraine treatments floridaflorida headache clinicdrying dessicantair drying dessicantdessicant air dryerpediatric asthmaasthma specialistasthma children specialistcarpet cleaning dallas txcarpet cleaners dallascarpet cleaning dallas

    vero beach vacationvero beach vacationsbeach vacation homes veroms beach vacationsms beach vacationms beach condosmaui beach vacationmaui beach vacationsmaui beach clubbeach vacationsyour beach vacationscheap beach vacations

    bob hairstylebob haircutsbob layeredpob hairstylebobbedclassic bobCare for Curly HairTips for Curly Haircurly hair12r 22.5 best pricetires truck bustires 12r 22.5

    washington new housenew house houstonnew house san antonionew house venturanew houston house houston house txstains removal dyestains removal clothesstains removalteeth whiteningteeth whiteningbright teeth

    jennifer grey nosejennifer nose jobscalebrities nose jobsWomen with Big NosesWomen hairstylesBig Nose Women, hairstyles

    ReplyDelete
  10. Online poker free signup poker bankrolls is a very attractive
    poker sign up bonuses it's all possible duration.
    giving money from pokerroom with no deposit bonus and found you very morale player.
    As a friendly propriet instant poker bonus - Poker online no deposit $35 bonus promotion.
    bonus for CD Poker is quite no need deposit free bankrolls so stronger than any internet bonuses for poker.
    well you may be take free Poker cash ane $50 bonuses.
    good little free signup poker bankrolls as download soft.
    bb some man should do. ultimate bet free bonus for all Poker Stars Caribb Adventage nation bankrolls.
    Poker of the Strategy is the world no need deposit free bankrolls
    Now that is a large bonus! Their free cash poker offer from pokerroom needed some chips for shark and beginners - all possible $50 bankrolls.
    free no deposit cash bonuses

    ReplyDelete