Wednesday, March 27, 2013

सलाहें

"कहाँ घर लिए हो?"
"जे.पी.नगर में."
"कितने में?"
"1BHK है, नौ हजार में"
"तुमको ठग लिया"
सामने से स्माइल पर मन ही मन गाली देते हुए, "साले, जब घर ढूंढ रहा था तब तेरी सलाह कहाँ गई थी? इतना ही है तो अभी भी इससे कम में उसी आस-पास में ढूंढ कर दे दो. मेरा क्या है, मेरा तो पैसा ही बचेगा"

फिर से -
"कहाँ घर लिए हो?"
"जे.पी.नगर में."
"कितने में?"
"1BHK है, नौ हजार में"
"अकेले रहते हो तो इतना पैसा क्यों बर्बाद कर रहे हो? किसी PG में क्यों नहीं ढूंढ लेते हो?"
फिर से मन में गाली देते हुए, "पैसा मैं कमाता हूँ, घर में मैं रहता हूँ, घर का किराया मैं देता हूँ, तो तुम्हें क्या दिक्कत है हज़रत? कोई PG चलाते हो क्या? या किस PG वाले कि एजेंट हो?"

फिर से -
"कहाँ घर लिए हो?"
"जे.पी.नगर में."
"कितने में?"
"1BHK है, नौ हजार में"
"और ऑफिस कहाँ है?"
"वहीं पास में, घर से आधे किलोमीटर पर"
"चार किलोमीटर दूर ले लेते तो दो हजार कम लगता"
फिर से मन में सोचते हुए, "और उसके साथ दो घंटे के ट्रैफिक का धुवाँ और धूल भी मुफ़्त में ही मिलता + दो घंटे बर्बाद अलग से, आपको आपकी अपनी धूल मुबारक़, हमें अपना बचा हुआ समय मुबारक़."

फिर से -
"कहाँ घर लिए हो?"
"जे.पी.नगर में."
"कितने में?"
"1BHK है, नौ हजार में"
"कितना अडवांस लिया?"
"साठ"
"थोडा और निगोसिएट करना चाहिए था तुमको"
मन में सोचते हुए, "जब घर ले रहा था तब भी तुम सबको पता था. जब इतनी ही चिंता थी तो तभी आकर खुद निगोसिएट करके कम में अडवांस तय करवा देते"

दोस्तों को मेरी सलाह है, मुफ़्त की सलाह अपने ही पास रखें. मुझे पता है कि मैं क्या कर रहा हूँ.
PS : पिछले दो महीनों में ऐसी कितनी ही बातें सुन-सुन कर पक चुका हूँ. अगर आप मदद कर सकते हैं तो सलाह दें, वरना अपनी सलाह अपने मुंह में ही रखें.

42 comments:

  1. ओके ...ठीक है !!!

    "वैसे ये टी-शर्ट कितने में लिए?"

    ReplyDelete
    Replies
    1. ये लाल वाली? ये तो मुफ़्त में मिली. :P

      Delete
    2. नयी लग रही थी तो पूछ लिए :) :) :)

      Delete
  2. बंगलौर क्यूँ शिफ्ट हो गए...

    कोलकाता शिफ्ट हो जाते....

    ReplyDelete
    Replies
    1. कलकत्ता क्यों? बिनदेखलपुर ही शिफ्ट होना चाहिए था.

      Delete
  3. अच्छा है! हम कोई सलाह नहीं देने वाले! :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप भी दे ही दीजिये. काहे कि बाद में अफ़सोस होगा. :)

      Delete
  4. आप घर ले लिए
    हां , ले लिए ,
    त आप बियाह कब करेंगे ???

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम तो आपको बोल ही चुके हैं. आप गिद्धभोज कि तयारी में हैं, और नजर मेरे बियाह पर.

      Delete
    2. हा हा हा एकदम सही जवाब लेकिन ई कब नसीब होगा बे :)

      Delete
  5. सलाह देना हम भारतीयों का विशेषाधिकार है, रोक लगाई तो बदहजमी हो जायेगी सबको:)

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन,होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. अरे कल पूछना भुला गये थे।
    ऊ फ्लैट कितने का बुक किये हो बे?
    :-)

    ReplyDelete
  8. अच्छा कहाँ घर लिये हो? कहीं जेपी नगर में तो नहीं? हमसे कहते हम वही फ़्लैट उतने में ही दिलवा देते जितने में तुम लिये हो.. तुम भी यार :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब गलती हो गई सो हो गई. अब क्या कर सकते हैं.

      Delete
  9. घर कर गई बात :-)

    ReplyDelete
  10. हां हां!
    "कहाँ घर लिए हो?"
    "जहन्नुम में."
    :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. घर से दूर तो महल भी जहन्नुम सा ही लगता है.

      Delete
  11. वैसे कुछ भी कहिये, 1 BHK का 9000 बहुत ज़्यादा है, हाँ JP नगर में ही :P

    ReplyDelete
    Replies
    1. चलिए, आप ही ढूंढ दीजिये. शर्त मात्र इतना है कि मेरे दफ्तर से १-२ किलोमीटर के भीतर होनी चाहिए. :)

      Delete
  12. हम तो देंगें सलाह आप चाहे जो कर लें :-)

    ReplyDelete
    Replies
    1. तो हम भी रिप्लाई कर देंगे आपके कमेन्ट का.. :D

      Delete
  13. दोस्ती की है तो निभाते रहना
    राग बेसुरा सही लगाते रहना
    कितना भी कहें सलाह मत दो
    फटे में टांग पर अडाते रहना
    :-) सोनल रस्तोगी

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम्म.. जो फट्टे में टांग न घुसाए वो दोस्त काहे का!

      Delete
  14. अरे भाई, इतना किराया क्यों भर रहे हो? एक फ्लैट खरीद ही लो, आधा-थोड़ा ईएमआई तो किराए में हुई बचत से ही निकल जाएगा... :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सोच तो मैंने भी यही रखा है, पर उसके लिए डाउन पेमेंट के लिए भी तो पैसे चाहिए. :(

      Delete
  15. हा हा मुफ्त की सलाह देने वाले सच में इरिटेट करते हैं ...

    ReplyDelete
  16. वैसे घर लेने में कुछ खास गल्‍ती तो नहीं हुई है आपसे .. पर घर लेने से पहले मुहूर्त्‍त दिखला लेना चाहिए था ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी बात से मुझे अपने एक दोस्त के हालात याद आ गये. बेचारे के होने वाले ससुर जी यहाँ तक कि रोज के खाना खाने के भी मुहूर्त निकालते हैं. दोपहर ढाई से साढ़े चार के बीच खा लेना नहीं तो राहू शुरू हो जायेगा. ;)

      Delete
  17. ghar to koi kharid nahin saktaa , kiraye par bhi nahin lae saktaa

    makaan liyaa jataa haen

    agli baar jo puchhae usko yahii kehna

    ab pahuch gaye ho naye makaan me so sukh shanti sae ghar banaa logae yahii kamna haen



    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रचना जी. :)

      Delete
  18. बिन्दास होकर रहो, खाना पकाओ औरों को मत पकाने दो।

    ReplyDelete
  19. बहुत सस्ते में घर मिल गया तुम्हे यार ! बधाई :)

    ReplyDelete
  20. वैसे कमाते कितना हो? सुना है बुत पैसे दे रही है नयी कंपनी :P

    ReplyDelete
  21. अच्छा लेकिन घर क्यूँ लिए? क्या जरूरत थी नौ हज़ार डुबाने की। ऑफिस में ही सो लेते। पूछे भी भी नहीं, इतना अच्छा सलाह अब मिस हो गया न तुमसे।

    ReplyDelete